सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

About Us

  ABOUT US 

WELCOME TO OUR WEBSITE 'GEOGRAPHY KNOWLEDGE ATOZ'.

GEOGRAPHY KNOWLEDGE ATOZ is a professional platform where we provide useful information about Geography subjects and the latest news. We hope you like all the contents provided by us.

If you have additional questions or require more information about our website, do not hesitate to contact us through email at buddhadeepa1@gmail.com

ABOUT GEOGRAPHY KNOWLEDGE ATOZ-

GEOGRAPHY KNOWLEDGE ATOZ This website was founded in [date] by BUDDHADEEP ARYAN. Also, GEOGRAPHY KNOWLEDGE ATOZ commits to reply to all people who follow our website. We hope you enjoy Our services as much as we enjoy offering them to you. Sincerely, BUDDHADEEP ARYAN

AIM OF GEOGRAPHY KNOWLEDGE ATOZ-

Like any other website, GEOGRAPHY KNOWLEDGE ATOZ We want viewers to enhance their skills with the help of our content. We will continue to provide helpful content to you like this.

Our About-us page was created with the help of the About Us Generator Tool

We are a leading online learning platform, guiding viewers to identify their strengths and fill in their learning gaps. We are working to turn our passion for GEOGRAPHY KNOWLEDGE ATOZ into a growing online website. If you have any questions or queries regarding our website, please don't hesitate to contact us.

Thanks For Visiting Our Site

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पर्यावरण किसे कहते हैं?(what is environment in hindi)

पर्यावरण किसे कहते हैं?(what is environment)   पर्यावरण किसे कहते हैं? पर्यावरण फ्रेंच शब्द 'Environ'  से उत्पन्न हुआ है और environ का शाब्दिक अर्थ है घिरा हुआ अथवा आवृत्त । यह जैविक और अजैविक अवयव का ऐसा समिश्रण है, जो किसी भी जीव को अनेक रूपों से प्रभावित कर सकता है। अब प्रश्न यह उठता है कि कौन किसे आवृत किए हुए है। इसका उत्तर है समस्त जीवधारियों को अजैविक या भौतिक पदार्थ घेरे हुए हैं। अर्थात हम जीवधारियों के चारों ओर जो आवरण है उसे पर्यावरण कहते हैं। पर्यावरण संरक्षण अधिनियम 1986 के अनुसार- पर्यावरण किसी जीव के चारों तरफ घिरे भौतिक एवं जैविक दशाएं एवं उनके साथ अंतःक्रिया को सम्मिलित करता है। सामान्य रूप में पर्यावरण की प्रकृति से समता की जाती है, जिसके अंतर्गत ग्रहीय पृथ्वी के भौतिक घटकों (स्थल, वायु, जल, मृदा आदि) को सम्मिलित किया जाता है, जो जीवमंडल में विभिन्न जीवों को आधार प्रस्तुत करते हैं, उन्हें आश्रय देते हैं, उनके विकास तथा संवर्धन हेतु आवश्यक दशाएं प्रस्तुत करते हैं एवं उन्हें प्रभावित भी करते हैं। वास्तव में विभिन्न समूहों द्वारा पर्यावरण का अर्थ विभिन्न दृष्टिक

भारत का भूगोल सामान्य परिचय (Geography of India General Introduction)

भारत की स्थिति एवं विस्तार- भारत की विशालता के कारण इसे उपमहाद्वीप की संज्ञा दी गई है। यह एशिया महाद्वीप के दक्षिण में स्थित है। इसका प्राचीन नाम 'आर्यावर्त ' उत्तर भारत में बसने वाले आर्यों के नाम पर किया गया। इन आर्यों के शक्तिशाली राजा भरत के नाम पर यह भारतवर्ष कहलाया। वैदिक आर्यों का निवास स्थान सिंधु घाटी में था, जिसे ईरानियों ने ' हिन्दू नदी' तथा इस देेेश को 'हिन्दुस्तान' कहा। यूनानियों ने सिंधु को 'इंडस' तथा इस देेेश को 'इंडिया' कहा। भारत का भूगोल 1. भारत विषुवत रेखा के उत्तरी गोलार्ध में अवस्थित है। भारतीय मुख्य भूमि दक्षिण में कन्याकुमारी (तमिलनाडु)  (8°4' उत्तरी अक्षांश) से उत्तर में इन्दिरा कॉल (लद्दाख) (37°6' उत्तरी अक्षांश) तक तथा पश्चिम में द्वारका (गुजरात) (68°7' पूर्वी देशांतर) से कीबिथू ( अरुणाचल प्रदेश) (97°25' पूर्वी देशांतर) के मध्य अवस्थित है। 2.   82°30' पूर्वी देशांतर भारत के लगभग मध्य (प्रयागराज के नैनी  सेे) से होकर गुजरती है जो कि देश का मानक समय  है। यह ग्रीनविच समय से 5 घंटे 30 मिनट आग

भारत के भौतिक प्रदेश। Physical Region of India in Hindi

भारत के भौतिक प्रदेश। Physical Region of India in Hindi भू-आकृति विज्ञान पृथ्वी की स्थलाकृतियों और उसके धरातल की विशेषताओं का अध्ययन करता है। भारत के लगभग  10.6%  क्षेत्र पर पर्वत,  18.5%  क्षेत्र पर पहाड़ियां,  27.7%  पर पठार तथा  43.2%  क्षेत्रफल पर मैदान विस्तृत हैं। विवर्तनिक इतिहास और स्तरित-शैल-विज्ञान के आधार पर भारतीय उपमहाद्वीप को निम्न पांच भौतिक प्रदेशों में विभाजित किया जा सकता है- 1. उत्तर का पर्वतीय क्षेत्र 2. दक्षिण का विशाल प्रायद्वीपीय पठार 3. विशाल (सिंधु-गंगा-ब्रह्मपुत्र) मैदान तथा 4. तटीय मैदान एवं 5. द्वीप समूह भारत के भौतिक प्रदेश 1. उत्तर का पर्वतीय क्षेत्र- ☆  हिमालय पर्वत श्रेणी- हिमालय पर्वत श्रेणियों का वर्गीकरण- 1.  महान हिमालय (हिमाद्रि)-  2.  मध्य या लघु हिमालय- 3.  शिवालिक हिमालय- (i)  ट्रांस या तिब्बत हिमालय- (ii)  पूर्वांचल की पहाड़ियां- हिमालय का प्रादेशिक विभाजन - (I)  पंजाब हिमालय-                              (II)  कुमायूं हिमालय- (III)  नेपाल हिमालय- (IV)  असम हिमालय- 2. दक्षिण का विशाल प्रायद्वीप पठार- ☆  प्रायद्वीपीय पर्वत- i.  अरावली पर्वत ii.  

भारत की भूगर्भिक संरचना, (Geological structure of India)

भारत की भूगर्भिक संरचना, (Geological structure of India) भारत की भूगर्भिक संरचना परिचय (Introduction) - किसी देश की भूगर्भिक संरचना हमें कई बातों की समझ में सहायता करती है, जैसे- चट्टानों के प्रकार, उनके चरित्र तथा ढलान, मृदा की भौतिक एवं रासायनिक विशेषताएं, खनिजों की उपलब्धता तथा पृष्ठीय एवं भूमिगत जल संसाधनों की जानकारी, इत्यादि। भारत का भूगर्भिय इतिहास बहुत जटिल है। भूपटल की उत्पत्ति के साथ ही इसमें भारत की चट्टानों की उत्पत्ति आरंभ होती है। इसकी बहुत सी चट्टानों की रचना अध्यारोपण (superimposition) के फलस्वरूप हुई। भूगर्भिक रूप से भारतीय उपमहाद्वीप गोंडवानालैंड अर्थात् दक्षिणी महाद्वीप का भाग था। अल्पाइन-पर्वतोत्पत्ति (orogeny) के उपरांत तृतीयक काल (tertiary period) में हिमालय पर्वत का उत्थान आरंभ हुआ और प्लिस्टोसीन (pleistocene)  युग में उत्तरी भारत के मैदान की उत्पत्ति आरंभ हुई। भारत की भूगर्भिक रचना का संक्षिप्त वर्णन आगे प्रस्तुत किया गया है। 1.आर्कियन शैल-समूह (Archaean or Pre- Cambrian Formations)- आर्कियन महाकल्प (Archaean Era) को प्री-कैम्ब्रियन (Pre-cambrian) युग भी कहा

भारत का अपवाह तंत्र। (Drainage system of india in hindi)

अपवाह तंत्र किसे कहते हैं? या अपवाह तंत्र क्या है? अपवाह का अभिप्राय जल धाराओं तथा नदियों द्वारा जल के धरातलीय प्रवाह से है। अपवाह तंत्र या प्रवाह प्रणाली किसी नदी तथा उसकी सहायक धाराओं द्वारा निर्मित जल प्रवाह की विशेष व्यवस्था है यह एक तरह का जालतंत्र या नेटवर्क है जिसमें नदियां एक दूसरे से मिलकर जल के एक दिशीय प्रवाह का मार्ग बनाती हैं। किसी नदी में मिलने वाली सारी सहायक नदियां और उस नदी बेसिन के अन्य लक्षण मिलकर उस नदी का अपवाह तंत्र बनाते हैं।  भारत का अपवाह तंत्र एक नदी बेसिन आसपास की नदियों के बेसिन से जल विभाजक के द्वारा सीमांकित किया जाता है। नदी बेसिन को एक बेसिक जियोमॉर्फिक इकाई (Geomorphic Unit) के रूप में भी माना जाता है जिससे किसी क्षेत्र एवं प्रदेश की विकास योजना बनाने में सहायता मिलती है। नदी बेसिन के वैज्ञानिक अध्ययन का महत्व निम्न कारणों से होता है- (i) नदी बेसिन को एक अनुक्रमिक अथवा पदानुक्रम में रखा जा सकता है। (ii) नदी बेसिन एक क्षेत्रीय इकाई (Area Unit) है जिसका मात्रात्मक अध्ययन किया जा सकता है और आंकड़ों के आधार पर प्रभावशाली योजनाएं तैयार की जा सकती हैं। (i