सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्लेट विवर्तनिकी सिद्धांत,(Plate Tectonic Theory In Hindi)

प्लेट विवर्तनिकी सिद्धांत,(Plate Tectonic Theory In Hindi)

भूमिका:

  • पृथ्वी की सतह अस्थाई एवं परिवर्तनशील है। पृथ्वी की सतह पर होने वाले परिवर्तनों के लिए अंतर्जात एवं बहिर्जात भूसंचलन को जिम्मेदार माना जाता है।
  • सतह पर होने वाले इन परिवर्तनों को स्पष्ट करने के लिए अनेक सिद्धांतों का प्रतिपादन किया गया परंतु भू-आकृति विज्ञान के क्षेत्र में अंतर्जात भूसंचलन द्वारा सतह पर होने वाले परिवर्तनों से संबंधित दिए गए सिद्धांतों में प्लेट विवर्तनिकी सिद्धांत को सर्वाधिक मान्यता प्राप्त है।
  • प्लेट विवर्तनिकी सिद्धांत,(Plate tectonic theory) के प्रतिपादन का श्रेय किसी एक भूगोलवेत्ता को नहीं जाता बल्कि महाद्वीपीय विस्थापन सिद्धांत, पुराचुंबकत्व अध्ययन एवं सागर नितल प्रसरण सिद्धांत का सम्मिलित रूप है। 

https://www.geographya2z.in/2022/03/plate-tectonic-theory-in-hindi.html
प्लेट विवर्तनिकी सिद्धान्त


प्लेट विवर्तनिकी सिद्धांत का विकास-

  • स्थलीय दृढ़ भूखण्डों को ही प्लेट कहते हैं। इन प्लेटों के स्वभाव तथा प्रवाह से संबंधित अध्ययन को प्लेट विवर्तनिकी कहते हैं। 
  • प्लेट शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम कनाडा के भूगर्भशास्त्री टूजो विल्सन के द्वारा 1955 में किया गया, जबकि प्लेट  विवर्तनिक शब्द का प्रयोग मॉर्गन द्वारा किया गया।
  • वर्ष 1967 में मैकेंजी, मॉर्गन  व पारकर  पूर्व के उपलब्ध विचारों को समन्वित कर प्लेट विवर्तनिकी सिद्धांत,(Plate tectonic theory) का प्रतिपादन किया।
  • 1962 में हैरी हेस ने महाद्वीपीय भागों से संबंधित अपना प्लेट विवर्तनिकी सिद्धांत प्रस्तुत किया, जिसके अनुसार सभी महाद्वीप एवं महासागर विभिन्न प्लेटों के ऊपर स्थित हैं जो हमेशा गतिशील हैं। इनकी गति के कारण ही कार्बोनिफेरस काल का विशाल स्थल खंड पैंजिया के विखंडन से निर्मित प्लेटों का स्थानांतरण हुआ जिससे कालांतर में महाद्वीपों एवं महासागरों की उत्पत्ति वर्तमान स्वरूप में हुआ। 
  • यह सिद्धांत वर्तमान व्यवस्था के भविष्य में परिवर्तित होने की ओर भी संकेत करता है, क्योंकि सभी प्लेट आज भी गतिशील हैं।
  • प्लेट संकल्पना का प्रादुर्भाव 2 तथ्यों के आधार पर हुआ है- (i) महाद्वीपीय प्रवाह की संकल्पना (ii) सागर तली के प्रसार की संकल्पना। 

प्लेट विवर्तनिकी-

https://www.geographya2z.in/2022/03/plate-tectonic-theory-in-hindi.html
विश्व के प्रमुख प्लेटें

प्लेट्स संचरण का कारण-

https://www.geographya2z.in/2022/03/plate-tectonic-theory-in-hindi.html
प्लेट्स का संचलन

(I) अपसारी संचलन-

मैग्मा के ऊपर उठकर विपरीत दिशाओं में प्रवाहित होने के कारण भू-प्लेटें परस्पर दूर हटती हैं। इस क्रिया से महासागरीय तली का प्रसार या विस्तारण होता है। अपसारी सीमाओं के ऊपर प्रायः ज्वालामुखी पर्वत तथा द्वीप स्थित होते हैं। अपसारी विवर्तनिकी में प्लेटों के रचनात्मक किनारों (Constructive Margins) के सहारे नए पटल का निर्माण होता है। अफ्रीका की ग्रेट रिफ्ट वैली अपसारी विवर्तनिकी एक अच्छा उदाहरण है।

(II) अभिसारी संचलन-

अभिसारी प्लेट संचलन तीन प्रकार से होता है-
(a) महाद्वीपीय- महासागरीय संचलन
(b) महाद्वीपीय- महाद्वीपीय संचलन
(c) महासागरीय- महासागरीय संचलन

(III) परवर्ती संचलन-

https://www.geographya2z.in/2022/03/plate-tectonic-theory-in-hindi.html
परवर्ती संचलन

भूपटल और उसके नीचे की अनुपटल जो सम्मिलित रूप से स्थलमंडल कहलाते हैं, आंतरिक रूप से दृढ़ प्लेट का बना हुआ माना गया है। अब तक 7 प्रमुख तथा 6 लघु प्लेटों का निर्धारण किया गया है, जो निम्न है-

प्रमुख या बड़े प्लेट:

1. यूरेशियन प्लेट

2. इंडियन प्लेट

3. अफ्रीकी प्लेट

4. अमेरिकी प्लेट

5. पैसिफिक प्लेट

6. अंटार्कटिक प्लेट

Note- कुछ विद्वान उत्तरी अमेरिकन एवं दक्षिणी अमेरिकन प्लेट को एक मानते हुए बड़े प्लेटों की संख्या मानते हैं।

छोटे प्लेट:

1. अरेबियन प्लेट

2. कैरेबियन प्लेट

3. स्कोशिया प्लेट

4. नाजका प्लेट

5. कोकोस प्लेट

6. फिलीपींस प्लेट

➡ इनके अतिरिक्त कई अन्य प्लेटों का भी पता चला है।

➡ महाद्वीपों का निर्माण करने वाली भू-प्लेट महाद्वीपीय भू-प्लेट (Continental Plate) तथा महासागरों के तल का निर्माण करने वाली भू-प्लेट महासागरीय भू-प्लेट (Oceanic Plate) कहलाती हैं।

➡ इन प्लेटों की औसत मोटाई 33 किलोमीटर है। महाद्वीपीय भाग में प्लेटों की औसत मोटाई 50-60 किलोमीटर है। महासागरीय भाग में यह मोटाई 5-10 किलोमीटर है। महाद्वीपीय प्लेटों का घनत्व 2.65 है, जबकि महासागरीय प्लेटों का घनत्व 2.95 है।

➡ इन प्लेटों पर स्थलाकृतियों का निर्माण भ्रंशन, विस्थापन आदि क्रियाएं होती रहती हैं, जिन्हें विवर्तनिकी कहते हैं। भूपटल के नीचे अधिक भारी एवं कठोर शैलों से निर्मित अनुपटल स्थित है। इसके नीचे दुर्बलता मंडल में पिघलता हुआ मैग्मा संवहन क्रिया द्वारा ऊपर उठता है तथा भूपटल में पहुंचकर दाएं और बाएं ओर प्रवाहित होता है। इससे भू-प्लेटें भी खिसकती हैं। यह क्रिया बहुत मंद गति से होती है।

ध्यातव्य है कि यह लघु प्लेट बड़े प्लेट से स्वतंत्र होकर गतिमान हो सकते हैं। इन प्लेटों के किनारे ही सर्वाधिक महत्वपूर्ण होते हैं, क्योंकि इन्हीं किनारों के सहारे ही भूकंपीय, ज्वालामुखीय तथा विवर्तनिक घटनाएं घटित होती हैं। अतः प्लेट के इन्हीं किनारों का अध्ययन महत्वपूर्ण है। सामान्य रूप में प्लेट के किनारों (Margins) तथा सीमा (Boundary) को तीन प्रकारों में विभक्त किया गया है।

NOTE- प्लेट सीमा तथा किनारों में अंतर स्थापित करना आवश्यक है। प्लेट के सीमांत भाग को प्लेट किनारा कहते हैं, जबकि दो प्लेट के मध्य संचलन मंडल को प्लेट सीमा कहते हैं।

संवहनीय धाराओं के अनुरूप भू-प्लेटों का विस्थापन तीन प्रकार से होता है-

जब दो भिन्न दिशाओं से संवहनी धाराएं परस्पर मिलती हैं तब एक प्लेट अवतलित हो जाती है तथा दूसरी उसके ऊपर चढ़ जाती है। फलस्वरूप संपीड़न के कारण प्लेटों के किनारों पर वलित पर्वतों का निर्माण होता है। अंतः सागरीय खड्ड (Canyons) एवं गर्त (Deeps) इसी क्रिया से उत्पन्न होते हैं। अभिसारी विवर्तनिकी में प्लेटों के किनारे विनाशात्मक (Destructive) होते हैं। इन्हीं के किनारों पर अत्यधिक भूकंप आते हैं।

प्रशांत महासागर की पश्चिमी एवं पूर्वी सीमा के सहारे अनेक खाईयां (Trenches) ऐसे ही विनाशात्मक किनारों पर निर्मित हैं। चिली, जापान, ताइवान, न्यूजीलैंड और फिलीपींस में अनेक भ्रंशों का निर्माण अभिसारी विवर्तनिकी के कारण हुआ है।

भूपटल में किसी भ्रंश (Fault) के सहारे स्थित दो प्लेटें परस्पर रगड़ती हुई अथवा एक-दूसरे के पार्श्व में संवहनिक धाराएं चलती हैं। इनसे नति-लंब सर्पण (Strike-Stip Fault) भ्रंश उत्पन्न होते हैं। इस विवर्तनिकी में प्लेटों के किनारे संरक्षी (Conservative) होते हैं। इन किनारों पर न तो नए पदार्थ का निर्माण होता है और न ही पदार्थ का विनाश होता है। ऐसी स्थिति मध्य महासागरीय कटक के पास होती है। पैसिफिक तथा अमेरिकन प्लेटों के मध्य सान एंड्रियास भ्रंश इसी प्रकार निर्मित है।

भू-प्लेटों की विवर्तनिकी से महासागरीय तलों की अपेक्षा महाद्वीप अधिक प्रभावित होते हैं। संवहन धाराओं को उत्पन्न करने वाले पिघले हुए मैग्मा की उत्पत्ति का कारण भूमिगत रेडियो- एक्टिव तत्वों का विखंडन है। प्लेटों के विस्थापन की गति 1 से 6 सेंटीमीटर प्रति वर्ष है।

प्लेट विवर्तनिकी सिद्धांत से महाद्वीपीय विस्थापन, समुद्र तली प्रसरण, ध्रुवीय परिभ्रमण, द्वीप चाप आदि पर प्रकाश पड़ता है।

धन्यवाद दोस्तों, आपको 'प्लेट विवर्तनिकी सिद्धांत(Plate tectonic theory)' के विषय में जानकारी कैसी लगी जरूर बताएं।  आप अपना सुझाव हमें दे सकते हैं।

My App:- DOWNLOAD



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पर्यावरण किसे कहते हैं?(what is environment in hindi)

पर्यावरण किसे कहते हैं?(what is environment)   पर्यावरण किसे कहते हैं? पर्यावरण फ्रेंच शब्द 'Environ'  से उत्पन्न हुआ है और environ का शाब्दिक अर्थ है घिरा हुआ अथवा आवृत्त । यह जैविक और अजैविक अवयव का ऐसा समिश्रण है, जो किसी भी जीव को अनेक रूपों से प्रभावित कर सकता है। अब प्रश्न यह उठता है कि कौन किसे आवृत किए हुए है। इसका उत्तर है समस्त जीवधारियों को अजैविक या भौतिक पदार्थ घेरे हुए हैं। अर्थात हम जीवधारियों के चारों ओर जो आवरण है उसे पर्यावरण कहते हैं। पर्यावरण संरक्षण अधिनियम 1986 के अनुसार- पर्यावरण किसी जीव के चारों तरफ घिरे भौतिक एवं जैविक दशाएं एवं उनके साथ अंतःक्रिया को सम्मिलित करता है। सामान्य रूप में पर्यावरण की प्रकृति से समता की जाती है, जिसके अंतर्गत ग्रहीय पृथ्वी के भौतिक घटकों (स्थल, वायु, जल, मृदा आदि) को सम्मिलित किया जाता है, जो जीवमंडल में विभिन्न जीवों को आधार प्रस्तुत करते हैं, उन्हें आश्रय देते हैं, उनके विकास तथा संवर्धन हेतु आवश्यक दशाएं प्रस्तुत करते हैं एवं उन्हें प्रभावित भी करते हैं। वास्तव में विभिन्न समूहों द्वारा पर्यावरण का अर्थ विभिन्न दृष्टिक

भारत का भूगोल सामान्य परिचय (Geography of India General Introduction)

भारत की स्थिति एवं विस्तार- भारत की विशालता के कारण इसे उपमहाद्वीप की संज्ञा दी गई है। यह एशिया महाद्वीप के दक्षिण में स्थित है। इसका प्राचीन नाम 'आर्यावर्त ' उत्तर भारत में बसने वाले आर्यों के नाम पर किया गया। इन आर्यों के शक्तिशाली राजा भरत के नाम पर यह भारतवर्ष कहलाया। वैदिक आर्यों का निवास स्थान सिंधु घाटी में था, जिसे ईरानियों ने ' हिन्दू नदी' तथा इस देेेश को 'हिन्दुस्तान' कहा। यूनानियों ने सिंधु को 'इंडस' तथा इस देेेश को 'इंडिया' कहा। भारत का भूगोल 1. भारत विषुवत रेखा के उत्तरी गोलार्ध में अवस्थित है। भारतीय मुख्य भूमि दक्षिण में कन्याकुमारी (तमिलनाडु)  (8°4' उत्तरी अक्षांश) से उत्तर में इन्दिरा कॉल (लद्दाख) (37°6' उत्तरी अक्षांश) तक तथा पश्चिम में द्वारका (गुजरात) (68°7' पूर्वी देशांतर) से कीबिथू ( अरुणाचल प्रदेश) (97°25' पूर्वी देशांतर) के मध्य अवस्थित है। 2.   82°30' पूर्वी देशांतर भारत के लगभग मध्य (प्रयागराज के नैनी  सेे) से होकर गुजरती है जो कि देश का मानक समय  है। यह ग्रीनविच समय से 5 घंटे 30 मिनट आग

भारत के भौतिक प्रदेश। Physical Region of India in Hindi

भारत के भौतिक प्रदेश। Physical Region of India in Hindi भू-आकृति विज्ञान पृथ्वी की स्थलाकृतियों और उसके धरातल की विशेषताओं का अध्ययन करता है। भारत के लगभग  10.6%  क्षेत्र पर पर्वत,  18.5%  क्षेत्र पर पहाड़ियां,  27.7%  पर पठार तथा  43.2%  क्षेत्रफल पर मैदान विस्तृत हैं। विवर्तनिक इतिहास और स्तरित-शैल-विज्ञान के आधार पर भारतीय उपमहाद्वीप को निम्न पांच भौतिक प्रदेशों में विभाजित किया जा सकता है- 1. उत्तर का पर्वतीय क्षेत्र 2. दक्षिण का विशाल प्रायद्वीपीय पठार 3. विशाल (सिंधु-गंगा-ब्रह्मपुत्र) मैदान तथा 4. तटीय मैदान एवं 5. द्वीप समूह भारत के भौतिक प्रदेश 1. उत्तर का पर्वतीय क्षेत्र- ☆  हिमालय पर्वत श्रेणी- हिमालय पर्वत श्रेणियों का वर्गीकरण- 1.  महान हिमालय (हिमाद्रि)-  2.  मध्य या लघु हिमालय- 3.  शिवालिक हिमालय- (i)  ट्रांस या तिब्बत हिमालय- (ii)  पूर्वांचल की पहाड़ियां- हिमालय का प्रादेशिक विभाजन - (I)  पंजाब हिमालय-                              (II)  कुमायूं हिमालय- (III)  नेपाल हिमालय- (IV)  असम हिमालय- 2. दक्षिण का विशाल प्रायद्वीप पठार- ☆  प्रायद्वीपीय पर्वत- i.  अरावली पर्वत ii.  

भारत की भूगर्भिक संरचना, (Geological structure of India)

भारत की भूगर्भिक संरचना, (Geological structure of India) भारत की भूगर्भिक संरचना परिचय (Introduction) - किसी देश की भूगर्भिक संरचना हमें कई बातों की समझ में सहायता करती है, जैसे- चट्टानों के प्रकार, उनके चरित्र तथा ढलान, मृदा की भौतिक एवं रासायनिक विशेषताएं, खनिजों की उपलब्धता तथा पृष्ठीय एवं भूमिगत जल संसाधनों की जानकारी, इत्यादि। भारत का भूगर्भिय इतिहास बहुत जटिल है। भूपटल की उत्पत्ति के साथ ही इसमें भारत की चट्टानों की उत्पत्ति आरंभ होती है। इसकी बहुत सी चट्टानों की रचना अध्यारोपण (superimposition) के फलस्वरूप हुई। भूगर्भिक रूप से भारतीय उपमहाद्वीप गोंडवानालैंड अर्थात् दक्षिणी महाद्वीप का भाग था। अल्पाइन-पर्वतोत्पत्ति (orogeny) के उपरांत तृतीयक काल (tertiary period) में हिमालय पर्वत का उत्थान आरंभ हुआ और प्लिस्टोसीन (pleistocene)  युग में उत्तरी भारत के मैदान की उत्पत्ति आरंभ हुई। भारत की भूगर्भिक रचना का संक्षिप्त वर्णन आगे प्रस्तुत किया गया है। 1.आर्कियन शैल-समूह (Archaean or Pre- Cambrian Formations)- आर्कियन महाकल्प (Archaean Era) को प्री-कैम्ब्रियन (Pre-cambrian) युग भी कहा

भारत का अपवाह तंत्र। (Drainage system of india in hindi)

अपवाह तंत्र किसे कहते हैं? या अपवाह तंत्र क्या है? अपवाह का अभिप्राय जल धाराओं तथा नदियों द्वारा जल के धरातलीय प्रवाह से है। अपवाह तंत्र या प्रवाह प्रणाली किसी नदी तथा उसकी सहायक धाराओं द्वारा निर्मित जल प्रवाह की विशेष व्यवस्था है यह एक तरह का जालतंत्र या नेटवर्क है जिसमें नदियां एक दूसरे से मिलकर जल के एक दिशीय प्रवाह का मार्ग बनाती हैं। किसी नदी में मिलने वाली सारी सहायक नदियां और उस नदी बेसिन के अन्य लक्षण मिलकर उस नदी का अपवाह तंत्र बनाते हैं।  भारत का अपवाह तंत्र एक नदी बेसिन आसपास की नदियों के बेसिन से जल विभाजक के द्वारा सीमांकित किया जाता है। नदी बेसिन को एक बेसिक जियोमॉर्फिक इकाई (Geomorphic Unit) के रूप में भी माना जाता है जिससे किसी क्षेत्र एवं प्रदेश की विकास योजना बनाने में सहायता मिलती है। नदी बेसिन के वैज्ञानिक अध्ययन का महत्व निम्न कारणों से होता है- (i) नदी बेसिन को एक अनुक्रमिक अथवा पदानुक्रम में रखा जा सकता है। (ii) नदी बेसिन एक क्षेत्रीय इकाई (Area Unit) है जिसका मात्रात्मक अध्ययन किया जा सकता है और आंकड़ों के आधार पर प्रभावशाली योजनाएं तैयार की जा सकती हैं। (i