सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पृथ्वी के बारे में रोचक तथ्य,(Interesting Facts About the Earth)

पृथ्वी के बारे में रोचक तथ्य,(Interesting Facts About the Earth)


1. पृथ्वी का निर्माण लगभग 4.54 अरब वर्ष पहले हुआ था और पृथ्वी को लेकर वैज्ञानिकों का अनुमान है कि इस ग्रह पर लगभग 4.1 अरब वर्ष पहले जीवन का अस्तित्व आंरभ हुआ था।

2. पृथ्वी का औसत घनत्व लगभग 5.523 g/cm³ व भूतल क्षेत्र 51,00,64,472 KM² है।

3. 3,959 मील की त्रिज्या के साथ, पृथ्वी हमारे सौर मंडल का पाचवां सबसे बड़ा ग्रह है।

4. पृथ्वी ही एकमात्र ऐसा ग्रह है जिसका नाम ग्रीक या रोमन देवता के नाम पर नहीं रखा गया है। उदाहरण के तौर पर बृहस्पति ग्रह का नाम रोमन देवताओं के राजा और यूरेनस ग्रह का नाम आकाश के ग्रीक देवता के नाम पर रखा गया है, लेकिन पृथ्वी का नाम अंग्रेजी/ जर्मन भाषा से आया है, जिसका अर्थ है 'भू'।

5. पृथ्वी सौरमंडल का सबसे घना (Dense) ग्रह है। यह ग्रह के भाग के अनुसार बदलता रहता है। उदाहरण के लिए धात्विक (Metallic) कोर, क्रस्ट की तुलना में सघन है। 

6. हमारे ग्रह का 70% हिस्सा महासागरों से ढका है। शेष 30% ठोस जमीन है, जो समुद्र के स्तर से ऊपर है।

7. पृथ्वी का सिर्फ 3% पानी ही ताज़ा है, बाकी 97% नमकीन (समुद्री) है। उस 3% में से 2% से अधिक बर्फ की चादरों और ग्लेशियरों (Antartica) में जमे हुए हैं। 1% से कम मीठे पानी झीलों, नदियों आदि में पाए जाते हैं।

8. पृथ्वी को अंतरिक्ष से देखने पर एक नीले रंग के तारे जैसे प्रतीत होता है। आकाश से पृथ्वी का नीला होने का कारण इस ग्रह पर मौजूद पानी है।

9. पृथ्वी को बाहरी अंतरिक्ष से अपने नीले रंग की उपस्थिति के कारण 'नीला ग्रह'(Blue Planet) के रूप में भी जाना जाता है। 

10. पृथ्वी पर तरल रूप में पानी का अस्तित्व पृथ्वी पर मौजूद तापमान अवधि के कारण बना है, जिसमें पानी 100 °C पर उबलने लगता है। इस प्रकार पृथ्वी का तापमान इसे गैस में परिवर्तित करता है और इसे जीवित प्राणियों तक बदलों के माध्यम से पहुंचा देता है।

11. पृथ्वी का कोर (Core) या क्रोड लगभग 85-88% लोहे से बना है और इसकी परत पर लगभग 47% ऑक्सीजन मौजूद है।

12. पृथ्वी की सतह पर 70% से अधिक पानी है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह पृथ्वी के द्रव्यमान के 1% से भी कम है।

13. पृथ्वी का वायुमंडल जमीनी स्तर से 50 किमी की ऊँचाई तक सबसे मोटा है और इसका विस्तार 10,000 किमी तक है।

14. पृथ्वी के वायुमंडल में पाँच परतें पायी जाती हैं - (i) क्षोभ मंडल (Troposphere), (ii) समतापमंडल (Stratosphere), (iii) मध्य मंडल (Mesosphere), (iv) ताप मंडल Thermosphere), (v) बाह्य मंडल (Exosphere).

15. पृथ्वी एकमात्र ऐसा ग्रह है जिसके वायुमंडल में 21% ऑक्सीजन है और इसकी सतह पर तरल अवस्था में पानी मौजूद है।

16. क्या आप जानते हैं? हम सभी सूर्य के चारों ओर 1,07,182 किलोमीटर प्रति घंटे के औसत वेग से यात्रा कर रहे हैं।

17. पृथ्वी के पास एक मात्र प्राकृतिक उपग्रह है जिसका नाम चंद्रमा है, आपकी जानकारी लिए बता दें कि बृहस्पति ग्रह में कुल 67 चंद्रमा मौजूद हैं।

18. पृथ्वी सौरमंडल का एकमात्र ग्रह है जिसकी सतह के नीचे टेक्टोनिक प्लेट्स मौजूद हैं। ये प्लेटें पृथ्वी के अंदर मैग्मा के ऊपर तैर रही हैं। जब ये प्लेटें आपस में टकराती हैं, तो पृथ्वी पर कंपन पैदा होती है जिसे आम भाषा में भूकंप कहते हैं।

19. पृथ्वी पर मौजूद महासागरों में से 95% से अधिक महासागर आज भी इंसानो की पहुंच से परे हैं।

20. पृथ्वी के घूमने की गति धीरे-धीरे कम हो रही है इसका अर्थ यह है कि अब से लगभग 140 मिलियन वर्षों में, पृथ्वी पर एक दिन की लंबाई 25 घंटे होगी।

21. पृथ्वी को कभी ब्रह्मांड का केंद्र माना जाता था और वैज्ञानिकों का मानना था कि सूर्य और अन्य ग्रह इसके चारों ओर चक्कर लगाते हैं। हालाँकि, वैज्ञानिकों द्वारा पृथ्वी के संदर्भ में निरंतर की गई खोजों ने इस अवधारणा को गलत साबित कर दिया और सूर्य को सौर मंडल के केंद्र में मान लिया गया।

22. पृथ्वी पर होने वाले मौसम का बदलाव इसके सूर्य के चारों ओर घूर्णन गति के कारण होते हैं।

23. वैज्ञानिकों का ऐसा मानना है कि कि कुछ क्षुद्रग्रह / धूमकेतु भविष्य में पृथ्वी से टकरा सकते हैं और इस ग्रह के जीवन को पूरी तरह बर्बाद कर सकते हैं। क्या आप जानते है? डायनासोर काल में एक ऐसी ही घटना घट चुकी है जिसने डायनासोर की प्रजाति को पृथ्वी से मिटा दिया था।

24. 30 करोड़ साल पहले पृथ्वी पर कोई भी देश नहीं हुआ करता था। यह एक सम्पूर्ण सुपर कॉन्टीनेंट हुआ करता था जिसको वैज्ञानिकों ने  पैंजिया (Pangea) नाम दिया।

25. यदि आप पृथ्वी को सामग्री के ढेर में अलग कर सकते हैं, तो आपको 32.1% लोहा, 30.1% ऑक्सीजन, 15.1% सिलिकॉन और 13.9% मैग्नीशियम मिलेगा। 

26. पृथ्वी चार मुख्य परतों से बनी है। जिनके नाम क्रमश: आंतरिक कोर, बाहरी कोर, मेंटल और क्रस्ट है।

27. पृथ्वी की सभी चार परतों में सबसे मोटी परत मेंटल (Mental) है, जो 2900 किलोमीटर मोटी है। तथा सबसे पतली परत भूपर्पटी (Crust) है, जो पृथ्वी की सतह से औसतन 30 किलोमीटर की गहराई पर है।

28. पृथ्वी के परिक्रमण (Rotation) की धुरी सूर्य के चारों ओर घूमने के संबंध में 23.4 डिग्री झुकी हुई है और पृथ्वी का सूर्य के चारों ओर कक्षा का आकार 14,95,98,262 किमी है।

29. उत्तरी ध्रुव से दक्षिणी ध्रुव तक पृथ्वी का व्यास भूमध्य रेखा के पार इसके व्यास से 43 किमी कम है।

30. पृथ्वी की भूमध्यरेखीय परिधि 40,030.2 किमी व इसका आयतन  10,83,20,69,16,846 घन किलोमीटर है।

31. क्या आपने कभी सोचा है पृथ्वी पर हर चार साल में एक लीप वर्ष क्यों होता है? ऐसा इसलिए क्योंकि पृथ्वी पर एक वर्ष ठीक 365 दिन नहीं बल्कि 365.2564 दिन का होता है। यह अतिरिक्त 0.2564 दिन हर चार साल में फरवरी के महीने में एक अतिरिक्त दिन (लीप दिन) के साथ समायोजित किया जाता है। इस तरह फरवरी 29 दिन का हो जाता है और वह वर्ष 366 दिन का होता है।

32. पृथ्वी के चंद्रमा कि त्रिज्या 1,738 किलोमीटर है जो कि सौर मंडल का पांचवां सबसे बड़ा चंद्रमा है।

33. चंद्रमा का एक ही भाग (पक्ष) सदैव पृथ्वी से दिखाई देता है, जिसका अर्थ है कि चंद्रमा पृथ्वी के साथ समकालिक रोटेशन करता है।

34. पृथ्वी के चंद्रमा का आकार पृथ्वी के आकार का लगभग 27% है।

35. चंद्रमा जब पृथ्वी के नजदीक होता है तो अपनी गुरुत्वाकर्षण शक्ति के द्वारा पृथ्वी के समुद्रों के जल को अपनी ओर खींचता है जिस कारण समुद्र में ज्वार की स्थिति उत्पन हो जाती है और पृथ्वी का गुरुत्वाकर्षण जल को नीचे की ओर ढकेलता है तथा इस प्रकार समुंद्र में भाटा आ जाता है।

36. पृथ्वी पर समुद्रों में आने वाला ज्वार-भाटा, पृथ्वी और चंद्रमा के बीच गुरुत्वाकर्षण बल के कारण होता है।

37. पृथ्वी और सूर्य के बीच की न्यूनतम दूरी 147.5 मिलियन किलोमीटर है और पृथ्वी और सूर्य के बीच की अधिकतम दूरी 152.1 मिलियन किलोमीटर है।

38. वैज्ञानिकों ने हाल ही में गणना की है कि पृथ्वी पर 1500 से अधिक खनिज पदार्थ ऐसे हैं जिन्हे अभी तक खोजा नहीं जा सका है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मनुष्य पृथ्वी पर पाए जाने वाले 5000 से अधिक खनिजों से अवगत हैं।

39. वैज्ञानिकों ने हाल ही में अनुमान लगाया है कि पृथ्वी की सतह के नीचे 1,000 किमी की दूरी पर पानी का एक महासागर मौजूद है।

40. बरमूडा त्रिकोण पर होने वाले हादसों को लेकर वैज्ञानिकों का मानना है कि ये सभी हादसे पृथ्वी की मजबूत चुंबकीय शक्ति के कारण होते हैं।

41. पृथ्वी की सतह का औसत तापमान -88/58 (न्यूनतम / अधिकतम) डिग्री सेल्सियस है।

42. पृथ्वी की सतह का अब तक का सबसे गर्म दिन 56.7 °C (134 °F) था, जिसे 10 जुलाई 1913 को ग्रीनलैंड रंच, डेथ वैली, कैलिफोर्निया, में रिकॉर्ड किया गया था।

43. पृथ्वी का सबसे ठंडा स्थायी रूप से बसा हुआ स्थान रूस के साइबेरिया के एक गाँव ओयमकॉन है, जहाँ का सर्दियों में तापमान -68 °C तक पहुँच जाता है।

44. धरती पर अब तक का सबसे ठंडा तापमान अंटार्कटिका के वोस्तोक स्टेशन पर था जो कि शून्य से -89.2 °C दर्ज किया गया था।

45. पृथ्वी के वायुमंडल और बाहरी अंतरिक्ष के बीच की सीमा को कर्मन रेखा के रूप में जाना जाता है। यह सीमा पृथ्वी के समुद्र स्तर से 100 किमी की दूरी पर स्थित है। इस सीमा को पार करने वालों को ही अंतरिक्ष यात्री कहाँ जाता है।

46. जैसा कि आप शायद जानते हैं, पृथ्वी में 1 चंद्रमा (द मून) है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि पृथ्वी के साथ सह-कक्षीय कक्षाओं में 2 अतिरिक्त को-ऑर्बिटल उपग्रह हैं? उन्हें 3753 Cruithne और 2002 AA29 कहा जाता है।

47. पृथ्वी के आंतरिक कोर का तापमान 5400 से 6000 °C के बीच है। इसका एकमात्र उदाहरण पृथ्वी के आंतरिक कोर से ज्वालामुखी के द्वारा निकलने वाला मैग्मा है।

48. आंतरिक कोर (Core) में निकेल-आयरन की उपस्थिति के कारण, पृथ्वी के पास एक मजबूत चुंबकीय क्षेत्र है। यह चुंबकीय क्षेत्र पृथ्वी पर भारी सौर हवाओं को बहने से रोकने के लिए जिम्मेदार है।

49. आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि पृथ्वी के आंतरिक कोर का तापमान सूर्य की सतह के तापमान (6000 °C) से भी अधिक है।

50. पृथ्वी आकार और द्रव्यमान के मामले में पांचवां सबसे बड़ा ग्रह है।

51. पृथ्वी सूर्य से 1 AU की दूरी पर है। AU (सूर्य से पृथ्वी की दूरी) सूर्य से आकाशीय पिंडों की दूरी मापने की मानक इकाई है और सूर्य के प्रकाश को पृथ्वी तक पहुंचने में 8 मिनट 20 सेकंड का समय लगता है।

52. क्या आप जानते है? अगर पृथ्वी की सतह से दबाव और घनत्व नष्ट हो जाएं तो सभी जीवित व निर्जीव वस्तुएं पृथ्वी को छोड़ कर अंतरिक्ष की तरफ उड़ने लगेंगे और कभी वापस पृथ्वी पर नहीं आ पाएंगे।

53. पृथ्वी के वायुमंडल में ओजोन परत पाई जाती है जो इसे सूर्य की शक्तिशाली और हानिकारक पराबैगनी किरणों (UV Rays) से बचाती हैं।

54. पृथ्वी की सतह का लगभग 70% महासागरों द्वारा घिरा है, जिसमें इस ग्रह का 97% पानी होता है। ये महासागर महान रहस्यों और भौगोलिक विशेषताओं से भरे पड़े हैं। उदाहरण के तौर पर पृथ्वी की सबसे लंबी पर्वत श्रृंखला भी पानी के नीचे है।

55. प्रशांत महासागर की सतह के नीचे जापान के दक्षिण पूर्व में "मारियाना ट्रेंच" नामक खाई पृथ्वी पर सबसे गहरी ज्ञात खाई है, जोकि लगभग सात मील (11033 m) गहरी है।

56. क्या आपको पता है? पृथ्वी पर लगभग 62 करोड़ साल पहले 1 दिन में केवल 21.9 घंटे हुआ करते थे।

57. चाँद और सूर्य की ग्रैविटी से उत्पन्न हुई समुद्री ज्वार की वजह से हर 100 साल में पृथ्वी के 1 दिन के समय में 1.7 मिली सेकंड और जुड़ जाते हैं।

58. ऐसा नहीं है की पृथ्वी पर सिर्फ दिन बढ़ रहे है कुछ प्राकृतिक घटनाएं ऐसी भी हैं, जिनकी वजह से एक दिन के समय में कमी भी आई है। जैसे की जापान में 2011 में आया भूकंप पृथ्वी के 1 दिन के समय में 1.8 माइक्रो सेकंड कम हो गए।

59. पृथ्वी पर अरबों साल पहले पाई जाने वाली जीवों की कुल प्रजातियों में से 99% प्रजातियाँ अब विलुप्त हो चुकी हैं।

60. वैज्ञानिकों का यह मानना है कि, 3.8 अरब वर्ष पहले महासागरों में जलीय जीवन की शुरुआत हुई थी। जिसमे मछलियां, नील हरित शैवाल इत्यादि सबसे पहले उत्पन हुए थे।

61. अंटार्कटिका में पाई जाने वाली सूखी घाटियाँ पृथ्वी के सबसे शुष्क स्थानों में से एक है, जोकि 4800 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला है। इस स्थान पर पिछले 2 मिलियन वर्षों से वर्षा नहीं हुई है।

62. नील नदी पृथ्वी की सबसे लंबी नदी है जो बुरुंडी में अपने स्रोत से 6,695 किलोमीटर दूर भूमध्य सागर तक फैली हुई है। हालांकि, अमेजन नदी पानी स्टोरेज के मामले में दुनिया की सबसे बड़ी नदी है।

63. वैज्ञानिकों ने ऐसा दावा किया है कि सूर्य लगातार ज्यादा गरम और चमकीला हो रहा है। अगले 100 करोड़ साल में यह इतना गरम और चमकदार हो जाएगा कि उसकी वजह से पृथ्वी के सभी महासागर सुख जाएंगे और धीरे-धीरे पृथ्वी से ग्रीन हाउस इफेक्ट भी खत्म हो जाएगा जिसके कारण पृथ्वी का तापमान 400 °C तक पहुंचने की आशंका है। अगर ऐसा होता है, तो हमारे इस ग्रह पर जीवन नष्ट हो जाएगा और हमारी पृथ्वी एक गर्म गोले में तब्दील हो जाएगी।

64. भूमध्य रेखा के दक्षिण में 1° पर स्थित  माउंट चिम्बोराजो का शिखर, पृथ्वी का सबसे ऊंचा बिंदु है। इस बिंदु पर पृथ्वी का उभार सबसे बड़ा है।

65. हमारे ग्रह पृथ्वी पर कुछ चट्टानें अपने आप चलती हैं। हालांकि, वैज्ञानिक इन चट्टानों की वास्तविक गति को पकड़ने में अभी तक विफल रहे हैं।

66. पृथ्वी पर सबसे अधिक वर्षा वाला स्थान मेघालय का मासिनराम है।इस स्थान पर 11,871 मिमी औसत वार्षिक वर्षा होती है।

67. हवाई जहाज अधिकतम 60,000 फीट की ऊंचाई पर उड़ते हैं जो लगभग 18.288 किमी है।

68. मालदीव दुनिया का सबसे समतल देश है, जिसका औसत समुद्र स्तर 2.4 मीटर से अधिक है।

69. एशिया महाद्वीप कुल पृथ्वी की भूमि का 30% क्षेत्रफल लिए हुए है लेकिन फिर भी दुनिया की 60% आबादी का प्रतिनिधित्व करता है।

70. स्कूल में हमने पढ़ा था कि पृथ्वी गोल है लेकिन ऐसा नहीं है। यह एक ऊबड़ -खाबड़ गोले के आकार की है और ऐसा इसीलिए है, क्योंकि पृथ्वी के इक्वैटर (Equator) के आस-पास बहुत ऊबड़-खाबड़ है और उत्तरी ध्रुव (North Pole) और दक्षिणी ध्रुव (South Pole) के पास चपटी है।

71. हमने मंगल पर पानी और कार्बनिक अणुओं के पिछले साक्ष्य और शनि के चंद्रमा टाइटन पर जीवन के निर्माण खंडों की खोज की है। 

वैज्ञानिकों ने बृहस्पति के चंद्रमा यूरोपा और शनि के चंद्रमा टाइटन के बर्फीले क्रस्ट के नीचे जीवन के संभावित अस्तित्व के बारे में अनुमान लगाया है। 

लेकिन पृथ्वी ही एक ऐसी जगह है जहाँ जीवन वास्तव में खोजा गया है।

72. पृथ्वी किसी भगवान के नाम पर नहीं रखा जाने वाला एकमात्र ग्रह है।

हमारे सौर मंडल के अन्य सात ग्रह सभी रोमन देवी और देवताओं के नाम पर हैं।

प्राचीन काल में केवल बुध, शुक्र, मंगल, बृहस्पति और शनि का नामकरण किया गया था। क्योंकि वे नग्न आंखों से दिखाई देते थे। नामकरण ग्रहों की रोमन विधि के हिसाब से यूरेनस और नेपच्यून की खोज के बाद रखी गई थी।

73. अभी तक हम सबका मानना था की गुरुत्वाकर्षण हर जगह एक समान होता है लेकिन आप ये जानकर चौक जाएंगे की ऐसा बिल्कुल नहीं है।

कनाडा में स्थित हडसन की खाड़ी ऐसी जगह है जहां का गुरुत्वाकर्षण पृथ्वी की बाकी जगह से अलग है। यहाँ की गुरुत्वाकर्षण शक्ति पृथ्वी की बाकी जगहों की तुलना में 0.05% कम है।

74. जब अंतरिक्ष यात्री पहली बार अंतरिक्ष में गए, तो उन्होंने पहली बार नग्न आँखों से पृथ्वी को देखा और हमारे घर को नीला ग्रह (Blue Planet) कहा। 

75. पृथ्वी (Earth) पर अरबों सालो से जीवन रूपी पेड़-पौधे व जीव-जन्तु फलते-फूलते आ रहे हैं।

पृथ्वी, सूर्य से दूरी की क्रम में तीसरा ग्रह है और बुध, शुक्र, पृथ्वी और मंगल जैसे चार स्थलीय ग्रहों में से सबसे बड़ा है।

76. पृथ्वी के गठन, स्थान, गति, संरचना, जीवन के अस्तित्व के बारे में अनेकों वैज्ञानिकों ने निरंतर प्रयास किए हैं एवं इस ग्रह से जुड़ी हैरान कर देने वाली बहुत सी रोचक खोजों को विश्व के सामने रखा। जिस से हमें अपने ग्रह को समझने में बहुत मदद मिली है। उदाहरण के तौर पर सौरमंडल में पृथ्वी ही एक ऐसी जगह है जहाँ पानी तीनों अवस्थाओं - ठोस, तरल और गैस के रूप में मौजूद है।

77. सौरमंडल के सभी ग्रहो में से पृथ्वी ही एक ऐसा ग्रह है जिस पर जीवन संभव है।


My App:- DOWNLOAD

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भारत का भूगोल सामान्य परिचय (Geography of India General Introduction)

भारत की स्थिति एवं विस्तार- भारत की विशालता के कारण इसे उपमहाद्वीप की संज्ञा दी गई है। यह एशिया महाद्वीप के दक्षिण में स्थित है। इसका प्राचीन नाम 'आर्यावर्त ' उत्तर भारत में बसने वाले आर्यों के नाम पर किया गया। इन आर्यों के शक्तिशाली राजा भरत के नाम पर यह भारतवर्ष कहलाया। वैदिक आर्यों का निवास स्थान सिंधु घाटी में था, जिसे ईरानियों ने ' हिन्दू नदी' तथा इस देेेश को 'हिन्दुस्तान' कहा। यूनानियों ने सिंधु को 'इंडस' तथा इस देेेश को 'इंडिया' कहा। भारत का भूगोल 1. भारत विषुवत रेखा के उत्तरी गोलार्ध में अवस्थित है। भारतीय मुख्य भूमि दक्षिण में कन्याकुमारी (तमिलनाडु)  (8°4' उत्तरी अक्षांश) से उत्तर में इन्दिरा कॉल (लद्दाख) (37°6' उत्तरी अक्षांश) तक तथा पश्चिम में द्वारका (गुजरात) (68°7' पूर्वी देशांतर) से कीबिथू ( अरुणाचल प्रदेश) (97°25' पूर्वी देशांतर) के मध्य अवस्थित है। 2.   82°30' पूर्वी देशांतर भारत के लगभग मध्य (प्रयागराज के नैनी  सेे) से होकर गुजरती है जो कि देश का मानक समय  है। यह ग्रीनविच समय से 5 घंटे 30 मिनट आग

पर्यावरण किसे कहते हैं?(what is environment in hindi)

पर्यावरण किसे कहते हैं?(what is environment)   पर्यावरण किसे कहते हैं? पर्यावरण फ्रेंच शब्द 'Environ'  से उत्पन्न हुआ है और environ का शाब्दिक अर्थ है घिरा हुआ अथवा आवृत्त । यह जैविक और अजैविक अवयव का ऐसा समिश्रण है, जो किसी भी जीव को अनेक रूपों से प्रभावित कर सकता है। अब प्रश्न यह उठता है कि कौन किसे आवृत किए हुए है। इसका उत्तर है समस्त जीवधारियों को अजैविक या भौतिक पदार्थ घेरे हुए हैं। अर्थात हम जीवधारियों के चारों ओर जो आवरण है उसे पर्यावरण कहते हैं। पर्यावरण संरक्षण अधिनियम 1986 के अनुसार- पर्यावरण किसी जीव के चारों तरफ घिरे भौतिक एवं जैविक दशाएं एवं उनके साथ अंतःक्रिया को सम्मिलित करता है। सामान्य रूप में पर्यावरण की प्रकृति से समता की जाती है, जिसके अंतर्गत ग्रहीय पृथ्वी के भौतिक घटकों (स्थल, वायु, जल, मृदा आदि) को सम्मिलित किया जाता है, जो जीवमंडल में विभिन्न जीवों को आधार प्रस्तुत करते हैं, उन्हें आश्रय देते हैं, उनके विकास तथा संवर्धन हेतु आवश्यक दशाएं प्रस्तुत करते हैं एवं उन्हें प्रभावित भी करते हैं। वास्तव में विभिन्न समूहों द्वारा पर्यावरण का अर्थ विभिन्न दृष्टिक

भारत की भूगर्भिक संरचना, (Geological structure of India)

भारत की भूगर्भिक संरचना, (Geological structure of India) भारत की भूगर्भिक संरचना परिचय (Introduction) - किसी देश की भूगर्भिक संरचना हमें कई बातों की समझ में सहायता करती है, जैसे- चट्टानों के प्रकार, उनके चरित्र तथा ढलान, मृदा की भौतिक एवं रासायनिक विशेषताएं, खनिजों की उपलब्धता तथा पृष्ठीय एवं भूमिगत जल संसाधनों की जानकारी, इत्यादि। भारत का भूगर्भिय इतिहास बहुत जटिल है। भूपटल की उत्पत्ति के साथ ही इसमें भारत की चट्टानों की उत्पत्ति आरंभ होती है। इसकी बहुत सी चट्टानों की रचना अध्यारोपण (superimposition) के फलस्वरूप हुई। भूगर्भिक रूप से भारतीय उपमहाद्वीप गोंडवानालैंड अर्थात् दक्षिणी महाद्वीप का भाग था। अल्पाइन-पर्वतोत्पत्ति (orogeny) के उपरांत तृतीयक काल (tertiary period) में हिमालय पर्वत का उत्थान आरंभ हुआ और प्लिस्टोसीन (pleistocene)  युग में उत्तरी भारत के मैदान की उत्पत्ति आरंभ हुई। भारत की भूगर्भिक रचना का संक्षिप्त वर्णन आगे प्रस्तुत किया गया है। 1.आर्कियन शैल-समूह (Archaean or Pre- Cambrian Formations)- आर्कियन महाकल्प (Archaean Era) को प्री-कैम्ब्रियन (Pre-cambrian) युग भी कहा

भारत के भौतिक प्रदेश। Physical Region of India in Hindi

भारत के भौतिक प्रदेश। Physical Region of India in Hindi भू-आकृति विज्ञान पृथ्वी की स्थलाकृतियों और उसके धरातल की विशेषताओं का अध्ययन करता है। भारत के लगभग  10.6%  क्षेत्र पर पर्वत,  18.5%  क्षेत्र पर पहाड़ियां,  27.7%  पर पठार तथा  43.2%  क्षेत्रफल पर मैदान विस्तृत हैं। विवर्तनिक इतिहास और स्तरित-शैल-विज्ञान के आधार पर भारतीय उपमहाद्वीप को निम्न पांच भौतिक प्रदेशों में विभाजित किया जा सकता है- 1. उत्तर का पर्वतीय क्षेत्र 2. दक्षिण का विशाल प्रायद्वीपीय पठार 3. विशाल (सिंधु-गंगा-ब्रह्मपुत्र) मैदान तथा 4. तटीय मैदान एवं 5. द्वीप समूह भारत के भौतिक प्रदेश 1. उत्तर का पर्वतीय क्षेत्र- ☆  हिमालय पर्वत श्रेणी- हिमालय पर्वत श्रेणियों का वर्गीकरण- 1.  महान हिमालय (हिमाद्रि)-  2.  मध्य या लघु हिमालय- 3.  शिवालिक हिमालय- (i)  ट्रांस या तिब्बत हिमालय- (ii)  पूर्वांचल की पहाड़ियां- हिमालय का प्रादेशिक विभाजन - (I)  पंजाब हिमालय-                              (II)  कुमायूं हिमालय- (III)  नेपाल हिमालय- (IV)  असम हिमालय- 2. दक्षिण का विशाल प्रायद्वीप पठार- ☆  प्रायद्वीपीय पर्वत- i.  अरावली पर्वत ii.  

भारत का अपवाह तंत्र। (Drainage system of india in hindi)

अपवाह तंत्र किसे कहते हैं? या अपवाह तंत्र क्या है? अपवाह का अभिप्राय जल धाराओं तथा नदियों द्वारा जल के धरातलीय प्रवाह से है। अपवाह तंत्र या प्रवाह प्रणाली किसी नदी तथा उसकी सहायक धाराओं द्वारा निर्मित जल प्रवाह की विशेष व्यवस्था है यह एक तरह का जालतंत्र या नेटवर्क है जिसमें नदियां एक दूसरे से मिलकर जल के एक दिशीय प्रवाह का मार्ग बनाती हैं। किसी नदी में मिलने वाली सारी सहायक नदियां और उस नदी बेसिन के अन्य लक्षण मिलकर उस नदी का अपवाह तंत्र बनाते हैं।  भारत का अपवाह तंत्र एक नदी बेसिन आसपास की नदियों के बेसिन से जल विभाजक के द्वारा सीमांकित किया जाता है। नदी बेसिन को एक बेसिक जियोमॉर्फिक इकाई (Geomorphic Unit) के रूप में भी माना जाता है जिससे किसी क्षेत्र एवं प्रदेश की विकास योजना बनाने में सहायता मिलती है। नदी बेसिन के वैज्ञानिक अध्ययन का महत्व निम्न कारणों से होता है- (i) नदी बेसिन को एक अनुक्रमिक अथवा पदानुक्रम में रखा जा सकता है। (ii) नदी बेसिन एक क्षेत्रीय इकाई (Area Unit) है जिसका मात्रात्मक अध्ययन किया जा सकता है और आंकड़ों के आधार पर प्रभावशाली योजनाएं तैयार की जा सकती हैं। (i