सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पृथ्वी का भूगर्भिक इतिहास,(Geological History Of the Earth)

पृथ्वी का भूगर्भिक इतिहास,(Geological History Of the Earth)


हमारी पृथ्वी की  आयु 4.6 अरब  वर्ष है। उक्त आयु  की पुष्टि उल्का  पिंडों एवं चंद्रमा के चट्टानों के विश्लेषण एवं परीक्षण से ज्ञात हुआ है। किंतु पृथ्वी के सर्वाधिक प्राचीन चट्टानों के रेडियोधर्मी पदार्थों के परीक्षणोपरांत 'पियरे क्यूरी'  एवं 'रदरफोर्ड' के द्वारा पृथ्वी की आयु 3.9 अरब वर्ष निर्धारित की गई है।
पृथ्वी के भूगर्भिक इतिहास की व्याख्या का सर्वप्रथम प्रयास फ्रांसीसी वैज्ञानिक 'कास्ते-दी-बफन' ने किया।
वर्तमान समय में पृथ्वी के इतिहास को अधोलिखित कालखंडों में विभक्त किया गया है। यथा-

1. महाकल्प (Era)- यह सामान्यतः सबसे बड़ा कालखंड होता है।

2. युग (Epoch)- महाकल्पों को पुनः युगों में विभाजित किया गया है, जिन्हें क्रमशः प्रथम, द्वितीय, तृतीय तथा चतुर्थ युग कहा जाता है।
3. शक या कल्प (Period)- प्रत्येक युग को छोटे-छोटे शकों अथवा कल्पों में विभाजित किया गया है।
पृथ्वी के भूगर्भिक इतिहास से संबंधित प्रमुख तथ्य-

➡️आद्य कल्प (Archaean or Azoic)- आद्य कल्प की चट्टानों में ग्रेनाइट तथा नीस की प्रधानता है। इन शैलों में जीवाश्म का पूर्णत: अभाव पाया जाता है।इनमें सोना तथा लोहा की भी मात्रा पाई जाती है। भारत में प्री-कैंब्रियन काल में अरावली पर्वत व धारवाड़ चट्टानों का निर्माण हुआ था।

➡️पूराजीवी महाकल्प (Palaeozoic Era)- इसकी अवधि 59 करोड़ वर्ष पूर्व से 24.8 करोड़ वर्ष पूर्व तक विद्यमान रहा। इसे प्राथमिक युग (Primary Epoch) की संज्ञा दी जाती है। इस कालखंड में समुद्र से जीवों का पदार्पण स्थल पर हुआ। यह जीव बिना रीढ़ की हड्डी वाले थे।

पूराजीवी महाकल्प को 6 शकों (Periods) में विभक्त किया गया है। यथा-

1. कैंब्रियन शक (Cambrian Period)- इस काल में प्रथम बार स्थल भागों पर समुद्रों का अतिक्रमण हुआ।वनस्पति एवं जीवों की उत्पत्ति इसी शक में हुआ था। प्राचीनतम अवसादी शैलों का निर्माण एवं जीवाश्म इसी शक के कालखंड में मिलता है। परीपेट्स (एनिलीडा एवं आर्थोपोडा संयोजक जंतु) का जीवाश्म इसी काल के चट्टानों में पाया जाता है। भारत में विंध्याचल पर्वतमाला का विकास इसी समय हुआ था। समुद्रों में सर्वप्रथम घासों की उत्पत्ति (सारगैसम आदि) भी इसी काल में हुई थी।

2. आर्डोविसियन शक (Ordovician Period)- इस काल में निम्न कोटि की मछलियों से कोर्डेटा का विकास प्रारंभ हुआ किंतु अभी भी स्थल खंड जीव विहीन था।

3. सिल्यूरियन शक (Silurian Period)- इस काल में जीवों का समुद्र से स्थल पर पदार्पण हुआ। रीढ़ वाले जीवो का विस्तार हुआ। इसी कारण इसे 'रीढ़ वाले जीवों का काल' कहते हैं। इस युग की प्रमुख विशेषता पर्वत निर्माण प्रक्रिया का 'कैलिडोनियन हलचल' था जिसके परिणामस्वरूप अप्लेशियन, स्कॉटलैंड एवं स्कैंडिनेविया के पर्वतों का निर्माण हुआ।

4. डिवोनियन शक (Devonian Period)- काल में पृथ्वी की जलवायु केवल समुद्री जीवों (मछलियों) के ही अनुकूल थी। अतः इसे मत्स्य युग के रूप में जाना जाता है। इस शक में उभयचर जीवों (Amphibians) की भी उत्पत्ति हुई। प्रथम उभयचर स्ट्रीगोसिफैलिया का विकास इसी काल में हुआ। इसके अलावा जमीन पर जंगलों का जन्म हुआ तथा फर्न जैसी वनस्पतियों का विस्तार हुआ। इस समय भी कैलिडोनियन पर्वतीकरण होते रहे।

5. कार्बोनीफेरस शक (Carboniferous Period)- इस काल में उभयचरों का काफी विस्तार हुआ इसलिए इसे 'उभयचरों का युग' (Age of Amphibians) कहते हैं। सरीसृप (Reptile) की उत्पत्ति तथा प्रवालरोधिकाओं का निर्माण इसी समय से प्रारंभ हुआ। इस शक को 'बड़े वृक्षों का काल' कहा जाता है। इसी युग में गोंडवाना क्रम के चट्टानों का निर्माण हुआ जिसमें कोयले का व्यापक निक्षेपण हुआ।

6. पर्मियन शक (Permian Period)- इस काल में तृतीय पर्वतीय हलचल 'हर्सीनियन' के फलस्वरूप बने वर्णों के कारण ब्लैक फॉरेस्टवास्जेस जैसे भ्रंशोत्थ पर्वतों का निर्माण हुआ।स्पेनिश मेसेटा, अल्टाई, तिएनशान तथा अप्लेशियन पर्वत के कुछ भागों का निर्माण इसी समय हुआ था।

इन्हें भी पढ़ें- 1. पृथ्वी के बारे में रोचक तथ्य

2. पृथ्वी की आंतरिक संरचना

➡️ मध्यज़ीवी महाकल्प (Mesozoic Era)- इसकी अवधि 24.8 करोड़ वर्ष पूर्व से 6.5 करोड़ वर्ष पूर्व तक थी। इसे ट्रियासिक, जुरासिक तथा क्रिटेशियस शकों में बांटा गया है, जो निम्नलिखित हैं-

1. ट्रियासिक शक (Triassic Period)- इसे रेंगने वाले जीवों का काल अर्थात् 'Age of Reptiles' कहा जाता है। इसके अंतिम चरण में उड़ने वाले सरीसृपों- टीरोसोरों एवं सरीसृपों से अंडे देने वाले निम्न कोटि के स्तनियों प्रोटीथिरिया की उत्पत्ति हुई। गोंडवानालैंड भूखंड का विभाजन ट्रियासिक काल में ही प्रारंभ हुआ तथा यह जुरासिक काल तक चलता रहा जिससे अंततः ऑस्ट्रेलिया, दक्षिणी भारत, अफ्रीका तथा दक्षिणी अमेरिका के ठोस स्थलखंड का निर्माण हुआ।

2. जुरासिक शक (Jurassic Period)- इस काल में पुष्प पादपों अर्थात् आवृतबीजी (Angiosperms) की उत्पत्ति हुई। जलचर, थलचर तथा नभचर तीनों प्रकार के जीवों का विकास जुरासिक काल में हुआ माना जाता है। स्थल पर डायनासोरों जैसे सरीसृपों का प्रभुत्व था।निम्न स्तनियों (प्रोटोथीरिया) से मार्सूपियल स्तनियों (मेटाथीरिया- कंगारू) की उत्पत्ति हुई। उड़ने वाले सरीसृप से प्रथम पक्षी अर्कियोप्टेरिक्स की उत्पत्ति भी इसी काल में हुआ था। इस समय धरातल पर रेंगने वाले रीढ़ विहीन जीवों की अधिकता थी।

3. क्रिटेशियस शक (Cretaceous Period)- यह मध्यजीवी महाकल्प का अंतिम शक था। इस काल में पर्वत निर्माण क्रिया अत्यधिक सक्रिय रही तथा रॉकी, एंडीज, यूरोप महाद्वीप की कई पर्वत श्रेणियों तथा पनामा कटक (Panama Ridge) की उत्पत्ति आरंभ हुई। क्रिटेशियस काल में एंजियोस्पर्म पौधों का विकास प्रारंभ हुआ। इसी काल में भारत के पठारी भागों में लावा का दरारी उद्भेदन हुआ। उत्तरी पश्चिमी कनाडा, अलास्का, मैक्सिको एवं ब्रिटेन के डोवर क्षेत्र में खड़िया मिट्टी का जमाव इस काल की सबसे प्रमुख विशेषता है।

➡️सीनोजोइक महाकल्प (Cenozoic Era)- इसकी अवधि 6.5 करोड़ वर्ष पूर्व से 20 लाख वर्ष पूर्व तक रहा। इस महाकल्प को तृतीयक युग (Tertiary Epoch) की संज्ञा से अभिहित किया जाता है। इसको 5 शकों में बांटा गया है जो निम्नलिखित हैं-

1. पैल्योसीन शक (Paleocene Period)- इस काल में अल्पाइन पर्वतीकरण, पुष्पी पादपों एवं पुरातन स्तनियों का विस्तार हो रहा था। डायनोसोर समाप्त हो चुके थे।

2. इओसीन शक (Eocene Period)- पिछले युग में निर्मित पर्वत श्रेणियों का इस शक में ऊंचाई में पुनः वृद्धि हुई। वृहद हिमालय का निर्माण प्रारंभ हुआ। इसी समय हिंद महासागर तथा अटलांटिक महासागर का विकास हुआ। वर्तमान स्तनधारी जीवों के अनेक प्रकारों का स्थल पर प्रादुर्भाव हो गया था। हाथी, घोड़ा, गैंडा तथा सूअर के पूर्वजों का उद्भव इस शक में हो गया था।

3. ओलिगोसीन शक (Oligocene Period)- आल्प्स पर्वत का निर्माण इस शक में प्रारंभ हो गया तथा वृहद हिमालय का निर्माण इस काल में पूर्णता की ओर अग्रसर रहा। स्थल भाग पर वर्तमान बिल्ली, कुत्ते तथा भालुओं के पूर्वजों का जन्म हुआ। पुच्छहीन बंदर (Ape) का आविर्भाव हुआ, जिसे मानव का पूर्वज कहा जा सकता है।

4. मायोसीन शक (Miocene Period)- इस काल में पोटवार क्षेत्र के अवसादों के वलन से लघु या मध्य हिमालय का निर्माण हुआ। आल्पस पर्वत विकास की ओर अग्रसर रहा। ज्ञातव्य है कि इस युग में शार्क मछली का सर्वाधिक विकास हुआ।स्थल पर प्रोकानसल (एक प्रकार का पुच्छहीन बंदर) का स्थानांतरण अफ्रीका से एशिया तथा यूरोप महाद्वीप में हुआ। पेंग्विन का आविर्भाव अंटार्कटिका में हुआ था।

5. प्लायोसीन शक (Pliocene Period)- इस काल में वर्तमान महासागरों तथा महाद्वीपों का स्वरूप प्राप्त हुआ। ब्लैक सागर, उत्तरी सागर, कैस्पियन सागर तथा अरब सागर की उत्पत्ति तथा जलपूर्ण द्रोणी टेथीस भू-सन्नति में अवसादों के जमाव से उत्तरी विशाल मैदान का निर्माण इसी काल में हुआ था। महान आकार वाली शार्क मछली का विनाश इसी समय हुआ। स्थल पर बड़े-बड़े स्तनधारी जीवों में ह्रास हुआ, किंतु मानव की उत्पत्ति इसी शक में आरंभ हुई थी।

https://www.geographya2z.in/2021/12/Geological-history-of-the-earth.html
Geological history of the Earth

➡️नियोजोइक या नूतन महाकल्प (Neozoic Era)- इस महाकल्प का प्रारंभ आज से लगभग 20 लाख वर्ष पूर्व प्रारंभ हुआ और आज भी जारी है। इसे चतुर्थ युग (Quaternary Epoch) की संज्ञा प्रदान किया गया है। इस काल को दो भागों में विभक्त किया गया है। यथा -

1. प्लीस्टोसीन शक (Pleistocene Period)- इस शक की सबसे बड़ी विशिष्टता भूपटल पर हिम चादर की उपस्थिति थी। 

उत्तरी अमेरिका में हिमसागर का फैलाव चार विभिन्न समयों में हुआ। यथा- (i) नेब्रास्कन (Nebraskan), (ii) कंसान (Kansan), (iii) इलिनोइन (Illinoin), (iv) विस्कांसिन(Wisconsin)

ध्यातव्य है कि प्रति दो हिमयुगों के बीच एक हिम रहित युग था जिसे आवांतर हिमयुग कहा गया है। इस प्रकार नेब्रास्कन तथा कंसान के बीच अपटोनियन आवांतर हिमयुग, कंसान तथा इलीनोइन के बीच यारमाउथ तथा इलीनोइन एवं विस्कांसिन के बीच संगमन का आवांतर हिमयुग था।

इसी प्रकार यूरोप में गुंज, मिंडेल, रिस तथा वुर्म संज्ञा के चार हिमयुगों का निर्धारण किया गया है। इसमें मिंडेल व रिस के बीच का आवांतर हिम युग सर्वाधिक लंबी अवधि का था। उत्तरी अमेरिका में महान झीलों तथा नार्वे के फियोर्ड तटों का निर्माण और स्थल रूपों का वर्तमान रूप इसी शक में प्राप्त हुआ।

इस शक में मानव का विकास क्रम जारी रहा। इसमें शिकार हेतु पत्थर के औजार बनाए गए तथा मानव अपनी जन्मस्थली 'अफ्रीका महाद्वीप' से यूरोप तथा एशिया तक पहुंच गए। हिमयुग तथा आवांतर हिमयुग के कारण जीवों में पर्याप्त स्थानांतरण होने लगा।

2. होलोसीन शक (Holocene Period)- इस शक को 'मानव युग' (Age of Man) की संज्ञा प्रदान की गई है। जलवायु में परिवर्तन एवं शुष्कता के कारण उत्तरी अफ्रीका एवं मध्यपूर्व एशिया के मरुस्थलों का उद्भव इस काल में हुआ।मनुष्य ने पशुपालन एवं कृषि करना प्रारंभ कर दिया था।


My App:- DOWNLOAD

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

If you have any doubts, Please let me know.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भारत का भूगोल सामान्य परिचय (Geography of India General Introduction)

भारत की स्थिति एवं विस्तार- भारत की विशालता के कारण इसे उपमहाद्वीप की संज्ञा दी गई है। यह एशिया महाद्वीप के दक्षिण में स्थित है। इसका प्राचीन नाम 'आर्यावर्त ' उत्तर भारत में बसने वाले आर्यों के नाम पर किया गया। इन आर्यों के शक्तिशाली राजा भरत के नाम पर यह भारतवर्ष कहलाया। वैदिक आर्यों का निवास स्थान सिंधु घाटी में था, जिसे ईरानियों ने ' हिन्दू नदी' तथा इस देेेश को 'हिन्दुस्तान' कहा। यूनानियों ने सिंधु को 'इंडस' तथा इस देेेश को 'इंडिया' कहा। भारत का भूगोल 1. भारत विषुवत रेखा के उत्तरी गोलार्ध में अवस्थित है। भारतीय मुख्य भूमि दक्षिण में कन्याकुमारी (तमिलनाडु)  (8°4' उत्तरी अक्षांश) से उत्तर में इन्दिरा कॉल (लद्दाख) (37°6' उत्तरी अक्षांश) तक तथा पश्चिम में द्वारका (गुजरात) (68°7' पूर्वी देशांतर) से कीबिथू ( अरुणाचल प्रदेश) (97°25' पूर्वी देशांतर) के मध्य अवस्थित है। 2.   82°30' पूर्वी देशांतर भारत के लगभग मध्य (प्रयागराज के नैनी  सेे) से होकर गुजरती है जो कि देश का मानक समय  है। यह ग्रीनविच समय से 5 घंटे 30 मिनट आग

पर्यावरण किसे कहते हैं?(what is environment in hindi)

पर्यावरण किसे कहते हैं?(what is environment)   पर्यावरण किसे कहते हैं? पर्यावरण फ्रेंच शब्द 'Environ'  से उत्पन्न हुआ है और environ का शाब्दिक अर्थ है घिरा हुआ अथवा आवृत्त । यह जैविक और अजैविक अवयव का ऐसा समिश्रण है, जो किसी भी जीव को अनेक रूपों से प्रभावित कर सकता है। अब प्रश्न यह उठता है कि कौन किसे आवृत किए हुए है। इसका उत्तर है समस्त जीवधारियों को अजैविक या भौतिक पदार्थ घेरे हुए हैं। अर्थात हम जीवधारियों के चारों ओर जो आवरण है उसे पर्यावरण कहते हैं। पर्यावरण संरक्षण अधिनियम 1986 के अनुसार- पर्यावरण किसी जीव के चारों तरफ घिरे भौतिक एवं जैविक दशाएं एवं उनके साथ अंतःक्रिया को सम्मिलित करता है। सामान्य रूप में पर्यावरण की प्रकृति से समता की जाती है, जिसके अंतर्गत ग्रहीय पृथ्वी के भौतिक घटकों (स्थल, वायु, जल, मृदा आदि) को सम्मिलित किया जाता है, जो जीवमंडल में विभिन्न जीवों को आधार प्रस्तुत करते हैं, उन्हें आश्रय देते हैं, उनके विकास तथा संवर्धन हेतु आवश्यक दशाएं प्रस्तुत करते हैं एवं उन्हें प्रभावित भी करते हैं। वास्तव में विभिन्न समूहों द्वारा पर्यावरण का अर्थ विभिन्न दृष्टिक

भारत की भूगर्भिक संरचना, (Geological structure of India)

भारत की भूगर्भिक संरचना, (Geological structure of India) भारत की भूगर्भिक संरचना परिचय (Introduction) - किसी देश की भूगर्भिक संरचना हमें कई बातों की समझ में सहायता करती है, जैसे- चट्टानों के प्रकार, उनके चरित्र तथा ढलान, मृदा की भौतिक एवं रासायनिक विशेषताएं, खनिजों की उपलब्धता तथा पृष्ठीय एवं भूमिगत जल संसाधनों की जानकारी, इत्यादि। भारत का भूगर्भिय इतिहास बहुत जटिल है। भूपटल की उत्पत्ति के साथ ही इसमें भारत की चट्टानों की उत्पत्ति आरंभ होती है। इसकी बहुत सी चट्टानों की रचना अध्यारोपण (superimposition) के फलस्वरूप हुई। भूगर्भिक रूप से भारतीय उपमहाद्वीप गोंडवानालैंड अर्थात् दक्षिणी महाद्वीप का भाग था। अल्पाइन-पर्वतोत्पत्ति (orogeny) के उपरांत तृतीयक काल (tertiary period) में हिमालय पर्वत का उत्थान आरंभ हुआ और प्लिस्टोसीन (pleistocene)  युग में उत्तरी भारत के मैदान की उत्पत्ति आरंभ हुई। भारत की भूगर्भिक रचना का संक्षिप्त वर्णन आगे प्रस्तुत किया गया है। 1.आर्कियन शैल-समूह (Archaean or Pre- Cambrian Formations)- आर्कियन महाकल्प (Archaean Era) को प्री-कैम्ब्रियन (Pre-cambrian) युग भी कहा

भारत के भौतिक प्रदेश। Physical Region of India in Hindi

भारत के भौतिक प्रदेश। Physical Region of India in Hindi भू-आकृति विज्ञान पृथ्वी की स्थलाकृतियों और उसके धरातल की विशेषताओं का अध्ययन करता है। भारत के लगभग  10.6%  क्षेत्र पर पर्वत,  18.5%  क्षेत्र पर पहाड़ियां,  27.7%  पर पठार तथा  43.2%  क्षेत्रफल पर मैदान विस्तृत हैं। विवर्तनिक इतिहास और स्तरित-शैल-विज्ञान के आधार पर भारतीय उपमहाद्वीप को निम्न पांच भौतिक प्रदेशों में विभाजित किया जा सकता है- 1. उत्तर का पर्वतीय क्षेत्र 2. दक्षिण का विशाल प्रायद्वीपीय पठार 3. विशाल (सिंधु-गंगा-ब्रह्मपुत्र) मैदान तथा 4. तटीय मैदान एवं 5. द्वीप समूह भारत के भौतिक प्रदेश 1. उत्तर का पर्वतीय क्षेत्र- ☆  हिमालय पर्वत श्रेणी- हिमालय पर्वत श्रेणियों का वर्गीकरण- 1.  महान हिमालय (हिमाद्रि)-  2.  मध्य या लघु हिमालय- 3.  शिवालिक हिमालय- (i)  ट्रांस या तिब्बत हिमालय- (ii)  पूर्वांचल की पहाड़ियां- हिमालय का प्रादेशिक विभाजन - (I)  पंजाब हिमालय-                              (II)  कुमायूं हिमालय- (III)  नेपाल हिमालय- (IV)  असम हिमालय- 2. दक्षिण का विशाल प्रायद्वीप पठार- ☆  प्रायद्वीपीय पर्वत- i.  अरावली पर्वत ii.  

भारत का अपवाह तंत्र। (Drainage system of india in hindi)

अपवाह तंत्र किसे कहते हैं? या अपवाह तंत्र क्या है? अपवाह का अभिप्राय जल धाराओं तथा नदियों द्वारा जल के धरातलीय प्रवाह से है। अपवाह तंत्र या प्रवाह प्रणाली किसी नदी तथा उसकी सहायक धाराओं द्वारा निर्मित जल प्रवाह की विशेष व्यवस्था है यह एक तरह का जालतंत्र या नेटवर्क है जिसमें नदियां एक दूसरे से मिलकर जल के एक दिशीय प्रवाह का मार्ग बनाती हैं। किसी नदी में मिलने वाली सारी सहायक नदियां और उस नदी बेसिन के अन्य लक्षण मिलकर उस नदी का अपवाह तंत्र बनाते हैं।  भारत का अपवाह तंत्र एक नदी बेसिन आसपास की नदियों के बेसिन से जल विभाजक के द्वारा सीमांकित किया जाता है। नदी बेसिन को एक बेसिक जियोमॉर्फिक इकाई (Geomorphic Unit) के रूप में भी माना जाता है जिससे किसी क्षेत्र एवं प्रदेश की विकास योजना बनाने में सहायता मिलती है। नदी बेसिन के वैज्ञानिक अध्ययन का महत्व निम्न कारणों से होता है- (i) नदी बेसिन को एक अनुक्रमिक अथवा पदानुक्रम में रखा जा सकता है। (ii) नदी बेसिन एक क्षेत्रीय इकाई (Area Unit) है जिसका मात्रात्मक अध्ययन किया जा सकता है और आंकड़ों के आधार पर प्रभावशाली योजनाएं तैयार की जा सकती हैं। (i